जानिए कौन है Flipkart का संस्थापक, और वालमार्ट ने फ्लिपकार्ट को एक लाख करोड़ में क्यू ख़रीदा

जानिए कौन है Flipkart का संस्थापक, और वालमार्ट ने फ्लिपकार्ट को एक लाख करोड़ में क्यू ख़रीदा

जानिए कौन है Flipkart का संस्थापक, और वालमार्ट ने फ्लिपकार्ट को एक लाख करोड़ में क्यू ख़रीदा

हेलो दोस्तों स्वागत है आप सभी का आपके अपने चैनल सुपर नेटवर्क में। दोस्तों क्या आप भी ऑनलाइन शॉपिंग करते है चाहे वो कोई भी वेबसाइट हो जैसे अमेज़न फ्लिपकार्ट और बहुत सारी छोटी छोटी वेबसाइट्स भी इंडिया में मौजूद है। तो दोस्तों आज हम बात करेंगे सिर्फ फ्लिपकार्ट के बारे में कैसे बनाई गई ये वेबसाइट कौन बनाया है। और क्यों फ्लिपकार्ट वालमार्ट को बेच दिया गया है। पहले आपको बता दू यदि आपने अभी तक चैनल को फॉलो नही किए है तो जल्द से फॉलो कर ले सभी जानकारी पाने के लिए।

Flipkart कैसे बना:

फ्लिपकार्ट को आज कौन नही जानता है फ्लिपकार्ट तो आज की सबसे ज्यादा चलने वाली कंपनी है। और फ्लिपकार्ट ही है इंडिया की ज्यादा चलने वाली कंपनी। दोस्तों अब जानते है फ्लिपकार्ट बनाने वालों का नाम दोस्तों दो दोस्त अमेज़ॉन में काम किया करते थे। जिसका नाम था सचिन बंसल और बिनीत बंसल दिनों ने अमेज़ॉन में काम करते हुए सोचा कि क्यों न हम अपना वेबसाइट बनाकर इंडिया में इस्तेमाल करते है। इस कारण से दोनों ने एक वेबसाइट बनाई और उस पर काम शुरू कर दिया। दोस्तों शुरुवात में उन्हें बहुत प्रोब्लेमो का सामना करना पड़ा था। लेकिन धीरे धीरे शेयर मार्केट बढ़ते लोग इन्वेस्ट करते गये। आखिर में फ्लिपकार्ट इंडिया का नंबर 1 शॉपिंग वेबसाइट बन गया।

आखिर क्यू बेचा गया फ्लिपकार्ट को वालमार्ट के पास: 

दोस्तों जैसा कि आप सभी को पता होगा कि हाल ही में फ्लिपकार्ट को वालमार्ट ने 1 लाख करोड़ रुपया में फ्लिपकार्ट का 77 प्रतिशत शेयर खरीद लिया है। दोस्तों वालमार्ट एक अमेरिकी कंपनी है जिसका नेटवर्क अमेरिका में ऑफलाइन मार्केट में सबसे ज्यादा है। दोस्तों हाल ही में अमेज़न और वालमार्ट में कुछ विवाद का मामला सामने आया है। तो वालमार्ट ने भी अपनी पूरी ताकत ऑनलाइन शॉपिंग की दुनिया में लगा दी और फ्लिपकार्ट की 77 प्रतिशत शेयर खरीद लिया। अब वालमार्ट इंडिया का सबसे बड़ा ऑनलाइन शॉपिंग ब्रांड बन गया और इस तरह से वो अमेज़ॉन को टक्कर भी दे सकता है। और दोस्तों अब वालमार्ट इंडिया में भी धूम मचाने वाला है। अब छोटी छोटी वेबसाइट को ज्यादा नुकसान होने का खतरा है।

Post a Comment

0 Comments